Kashmir

Kashmir…

मैं आज़ाद था जब तक मुझे नहीं डराया था,
तुम्हारी धमकियों ने हमारे रिशते की नीव को ठुकराया था,
जिससे मज़बूर हो कर मैने कहीं और हाथ बढ़ाया था,
मेरी वादीयो मै तुमने लाल रंग को इस तरह बिछाया था कि मेरे दोस्तो न मुझे सफेद चोला ओढ़या था,
मैंने भी एक दोस्त तब बनाया था …

हम भुले नहीं उन आंसुओ की बारिश जिससे तुमने हमारे बच्चों की लशो को बहाया था,
और
मेरे “कश्मीर” की “वाडियो को भी नहलाया था,
मेरी बिखरी बाहों को भारत ने संभाला था,
मैंने भी एक दोस्त तब बनाया था…

मेरी भूमि के दो हिस्से तुम्हारे फितूर ने करवे थे,
और बिना किसी गीले शिकवे के दर्द मुस्कुरा कर हमने उठाये थे..
आज जब पुराने किस्से दोहरते है तो हमारे सैलाब को घर जाने की खुशी से भुला देते है,
अब घर लोटने का वक़्त है आंखो मे पुरानी यादें है,
मेरी तकलीफ़ो को तवाज्जो देने वाले मेरा भारत महान है…

धन्यवाद
-विशाखा मलिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

yaadein

यादें

स्कूल की वह बातें चुलबुली यादें झगड़ना मनाना एक दूसरे को बहुत सताना टिफिन ब्रेक से पहले चुपके से टिफिन खत्म कर जाना लास्ट बेंच पर बैठकर सामने वाले को पेंसिल चुभाना मेरा रोना और तेरा सताना मेरा रोना और तेरा मनाना कहां रह गई है वह यादें जिस पर बैठकर चाय की डुबकिया घटक […]

Touch

The chili pepper on the wheels Smashed into the ice A hard touch of wood broke The shield of ice, And Water touches the light; The smoothness halted The Creamy touch of rubbery glassy Shades,Twinkling on the ice ageCracked the base; Almost louder than I heard before Slams the gate, One touch of storm can […]

Email
Pinterest
LinkedIn
Share
Instagram